समय

समय

प्रति पल बह रहा है

बंद मुठ्ठियो से

सूखी रेत की तरह ।

समय का विस्तार

पकड़ो ऐसे

जैसे

मेले में घूमता बच्चा

माँ का आँचल पकड़ता है।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s