एक डर

एक डर बज़बज़ा रहा है

सुनसान पड़ी सड़क पर

ना कोई आ रहा है

ना कोई जा रहा है

सूखे पत्ते हवा में

उड़ रहे हैं कभी इधर कभी उधर

बस उन्हीं की आवाज सुनाई देती है

इस उदास शाम के बीच

उतरती शाम के संग संग

उतर रही है लाकडाउन की छायाएं

मुंह ढांपकर अबोले से उतरते हैं

इक्का दुक्का छितराए से

दूरी बनाते ,बचते बचाते से लोग

अपार्टमेंट के बाहर खड़े हाकर से

फल सब्जी खरीदने ।

यूंही लोग हवा की तरह

बातों का रंग बदलते देखते है

साम्यवादी चीन की करतूत है ये

ना भाई ,ना

ये तो तब्लीग़ी जमात़ का करनामा है

बहस और आरोपों-प्रत्यारोपों के

टीवी कार्यक्रम से बाहर

हर व्यक्ति अकेला खड़ा है

लम्बी होती अपनी छाया के संग ।

शहर में अफवाहों का बाज़ार सजता है
व्हाट्स अप पर एक ग्रुप से

दूसरे ग्रुप तक सनसनी मचा कर

फल मत खरीदना उस दाढ़ी वाले से

जो बदनीयती का थूक लगाता है

बीमारी फैलाता है

धर्म की टोपी पहनकर

अधर्म का बाज़ार सजाता है ।

दुर्भावनावों की दुर्गंध से

बड़ी होती है सद्भावनाओं की सुगंध

हर कुत्सित इरादों को नाकाम कर

सदाशयता अपनी राह चलती है

सहज ही जीवन सधे कदम चलता है

हर बीमारी के बाद

ज़िन्दगी अपनी रफ़्तार चलती है

तमाम घबराहटों को नाकाम कर

करोना से आगे निकल ।

3 विचार “एक डर&rdquo पर;

  1. सियासती चाल फल में थूक लगाने का vdo 4-5 साल पुराना।ये टोपी दाढ़ीवाले की करतूत नही आदत थी बिल्कुल वैसी ही जैसे आज भी अक्सर नोट गिनते समय बार बार अंगुली में थूक लगाते हैं गिन ने वाले लोग। आदत हिन्दू मुसलमान नहीं देखती ।सियासत करवाती है हिन्दू मुसलमान ।

    पसंद करें

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s